Thursday Talks Hindi Baaten 2.7.15

hindibaaten 2.7.15 Thursday talks hindi baaten logo

When darkness closes in

and we can see the lights

of faraway homes

they look like ship of light

sailing the ocean of darkness.

 

Love and hugs, have a great great day/ days ahead!

 

===========================================

 

Here’s Vishal’s link:
https://vishalbheeroo.wordpress.com/2015/07/01/aaj-hindi-mein-baat-kartein-hai/

and my dear friend Itsmine’s poem:

लिखना तो चाहता था बहुत दिनोसे
“वो” दिन आज आया है
शुक्रिया कैसे करू मै आपका
जो मौका आपने मुझे दिया है !

आता तो कुछ नहीं हमें मगर,
पहिली बार ये कोशिश कियी है
शायर भी नहीं हम मगर ,
फिर भी कवौली ये की है ! :प

इसलिए “अर्ज” किया है -(नौकरी के लिए नहीं , छोकरी के लिए 😉 )

वक्त चलता रहा,
परिस्थितिया बदलती गयी !
मैं तो वहीं रह गया,
पर वो चली गयी !!

जिंदगी मै अगर किसीको अलविदा करना रह जाये , तोह वो सबसे दुःखदायी है !
इसी तरह अपने प्यार का इजहार करना भी बहुत ही जरुरी है !!
हवस , नादानी , लफडोंका तोह धिक्कार है !
फिर भी हमें सच्चे प्यार मै विश्वास है !!

पानी और जिंदगी मैं कोई फर्क नहीं है यारो इसलिए
जिंदगी रे जिंदगी तेरा रंग कैसा
जिसमे मिलादु उसके जैसा !!
-Itsmine

negativethinkerr.wordpress.com

 

Sonu @momsprincesspari.wordpress.com

and Indira@ seepiya.wordpress.com

we are waiting for your posts!

 

Here comes Indira’s post, Sonu betrayed ;p this week atleast.

शुरुआत करने के लिए एक पुरानी पोएम दे रही हूँ. https://seepiya.wordpress.com/Zindgi

 

Well, it will take you to Indira’s blog for exploration, I tried to copy the url of one of her poems but it did not worked out well, it gave me a hundred digit url or atleast 50 digit url- most probably because the names are in hindi alphabet 🙂

Anyway, whole blog instead of one poem is not a bad bargain, right?

Advertisements

14 thoughts on “Thursday Talks Hindi Baaten 2.7.15

  1. लिखना तो चाहता था बहुत दिनोसे
    “वो” दिन आज आया है
    शुक्रिया कैसे करू मै आपका
    जो मौका आपने मुझे दिया है !

    आता तो कुछ नहीं हमें मगर,
    पहिली बार ये कोशिश कियी है
    शायर भी नहीं हम मगर ,
    फिर भी कवौली ये की है ! :प

    इसलिए “अर्ज” किया है -(नौकरी के लिए नहीं , छोकरी के लिए 😉 )

    वक्त चलता रहा,
    परिस्थितिया बदलती गयी !
    मैं तो वहीं रह गया,
    पर वो चली गयी !!

    जिंदगी मै अगर किसीको अलविदा करना रह जाये , तोह वो सबसे दुःखदायी है !
    इसी तरह अपने प्यार का इजहार करना भी बहुत ही जरुरी है !!
    हवस , नादानी , लफडोंका तोह धिक्कार है !
    फिर भी हमें सच्चे प्यार मै विश्वास है !!

    पानी और जिंदगी मैं कोई फर्क नहीं है यारो इसलिए
    जिंदगी रे जिंदगी तेरा रंग कैसा
    जिसमे मिलादु उसके जैसा !!
    -Itsmine

    Liked by 1 person

  2. Hello Sharmishtha!
    Your Thursday project looks interesting. Congratulations!
    So sorry, it skipped my mind this Thursday – was too busy taking in the response of my first blog story’s first episode. Will surely participate this Thursday, the 9th.
    Am a little new to blogging, so correct me if I’m wrong, I need to post in ‘Comments’ right?
    Meanwhile, I welcome you and anyone who’s reading this to visit my blog.
    https://storyvory.wordpress.com
    Best wishes, See you on Thursday!
    Praveen Raj

    Like

    • Thanks Praveen, I will wait for your post this Thursday onwards, you don’t have to write something new for us, you can serially/at random share your old works till you finish them!

      Like

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s